हिमालय यात्रा श्रीखंड महादेव यात्रा मार्गदर्शन

श्रीखंड महादेव यात्रा मार्गदर्शन

श्रखंड महादेव हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में स्थित है और इसे भगवान शिव का निवास माना जाता है। यह स्थान धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व के साथ-साथ अद्वितीय प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। इस लेख में हम श्रीखंड महादेव तक पहुंचने के तरीकों, चढ़ाई की कठिनाइयों, यात्रा के दौरान आवश्यक चीजों और अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों पर चर्चा करेंगे।

 श्रीखंड महादेव कैसे पहुंचे


ब्रह्मकमल पार्वती बाग 

श्रीखंड महादेव तक पहुंचने के लिए आपको सबसे पहले हिमाचल प्रदेश के शिमला या कुल्लू शहर तक पहुंचना होगा। इसके बाद यात्रा की निम्नलिखित चरणों का पालन करें:


1. **शिमला से निरमंड:** शिमला से निरमंड के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं। यह यात्रा लगभग 150 किमी की है और इसमें 6-7 घंटे का समय लग सकता है।

2. **निरमंड से बागी पुल:** निरमंड से बागी पुल तक भी बस या टैक्सी से यात्रा की जा सकती है। यह दूरी लगभग 20 किमी है।

3. **बागी पुल से ट्रेकिंग:** बागी पुल से श्रीखंड महादेव की ट्रेकिंग शुरू होती है। यह ट्रेकिंग लगभग 35 किमी की है और इसे पूरा करने में 5-7 दिन का समय लग सकता है।

दिल्ली से श्रीखंड महादेव कैसे पहुंचे

दिल्ली से श्रीखंड महादेव पहुंचने के लिए आपको पहले शिमला या कुल्लू पहुंचना होगा। इसके लिए आप निम्नलिखित विकल्प चुन सकते हैं:

1. **बस:** दिल्ली से शिमला या कुल्लू के लिए कई बस सेवाएं उपलब्ध हैं। यह यात्रा लगभग 10-12 घंटे की होती है।

2. **ट्रेन:** दिल्ली से कालका के लिए ट्रेन लें और फिर कालका से शिमला के लिए ट्रेन या टैक्सी।

3. **फ्लाइट:** दिल्ली से भुंतर (कुल्लू) के लिए फ्लाइट लें और फिर भुंतर से टैक्सी द्वारा निरमंड पहुंचें।

शिमला या कुल्लू पहुंचने के बाद, आपको ऊपर बताए गए चरणों का पालन करना होगा।श्री

खंड महादेव की चढ़ाई

श्रीखंड महादेव की ट्रेकिंग कुल 35 किमी की होती है और यह बागी पुल से शुरू होती है। इस ट्रेकिंग में निम्नलिखित महत्वपूर्ण पड़ाव होते हैं:

1. **जंगल चट्टी:** बागी पुल से लगभग 5 किमी की दूरी पर स्थित है।

2. **थाचडू:** जंगल चट्टी से लगभग 12 किमी की दूरी पर।

3. **काली घाटी:** थाचडू से 7 किमी की चढ़ाई।

4. **भीम द्वार:** काली घाटी से 4 किमी की दूरी पर।

5. **कुंभ स्नान:** भीम द्वार से 2 किमी की दूरी पर।

6. **पार्वती बाग:** कुंभ स्नान से 4 किमी की दूरी पर।

7. **श्रीखंड महादेव:** पार्वती बाग से 6 किमी की दूरी पर।

 ट्रेकिंग की कठिनाई

श्रीखंड महादेव की ट्रेकिंग को कठिन माना जाता है। इसमें उच्च ऊंचाई (5,227 मीटर) और कठिन मार्ग शामिल है। यहां मौसम तेजी से बदलता है, जिससे यात्रा और चुनौतीपूर्ण हो जाती है। इसलिए, शारीरिक फिटनेस और मानसिक तैयारी आवश्यक है।

 क्या किन्नर कैलाश और श्रीखंड महादेव एक ही हैं?

नहीं, किन्नर कैलाश और श्रीखंड महादेव अलग-अलग तीर्थ स्थल हैं। किन्नर कैलाश हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में स्थित है, जबकि श्रीखंड महादेव कुल्लू जिले में स्थित है।

 यात्रा के दौरान क्या खाना चाहिए?ट्रे

किंग के दौरान आपको हल्का, पौष्टिक और ऊर्जा देने वाला खाना साथ रखना चाहिए। जैसे:

- ड्राई फ्रूट्स

- एनर्जी बार

- चॉकलेट

- बिस्कुट

- इंस्टेंट नूडल्स

- पानी की बोतल

श्रीखंड महादेव की प्रसिद्धि

श्रीखंड महादेव धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है। यह माना जाता है कि यहां भगवान शिव स्वयं निवास करते हैं। यहां की प्राकृतिक सुंदरता, कठिन ट्रेकिंग रूट और धार्मिक महत्व के कारण यह स्थान श्रद्धालुओं और पर्यटकों के बीच लोकप्रिय है।

 श्रीखंड महादेव की हाइट

श्रीखंड महादेव की ऊंचाई लगभग 5,227 मीटर (17,150 फीट) है। यह ऊंचाई इसे एक कठिन और चुनौतीपूर्ण ट्रेकिंग स्थल बनाती है।

शंकर भगवान को कौन सी मिठाई चढ़ाई जाती है?

भगवान शिव को आमतौर पर भांग, धतूरा और बेलपत्र चढ़ाए जाते हैं। मिठाई के रूप में पंजीरी या लड्डू चढ़ाए जा सकते हैं।

 महादेव की नगरी

महादेव की नगरी के रूप में वाराणसी (काशी) को जाना जाता है। यह स्थान भगवान शिव के प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है।

महादेव का सबसे बड़ा ज्योतिर्लिंग

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग को महादेव का सबसे बड़ा ज्योतिर्लिंग माना जाता है। यह गुजरात में स्थित है।

 शिव जी के कितने धाम

भगवान शिव के 12 प्रमुख ज्योतिर्लिंग धाम हैं। इनमें से कुछ प्रमुख हैं:

1. सोमनाथ (गुजरात)

2. मल्लिकार्जुन (आंध्र प्रदेश)

3. महाकालेश्वर (मध्य प्रदेश)

4. ओंकारेश्वर (मध्य प्रदेश)

5. केदारनाथ (उत्तराखंड)

6. भीमाशंकर (महाराष्ट्र

तिब्बत में स्थित कैलाश पर्वत

कैलाश पर्वत तिब्बत में स्थित है और इसे हिंदू धर्म में पवित्र माना जाता है। यह भगवान शिव का निवास स्थान माना जाता है और इसके उल्लेख कई हिंदू ग्रंथों में मिलता है। कैलाश पर्वत की परिक्रमा करना एक महत्वपूर्ण धार्मिक अनुष्ठान है।

इस प्रकार, श्रीखंड महादेव यात्रा एक अद्वितीय और धार्मिक अनुभव है जो आपको प्राकृतिक सुंदरता और आध्यात्मिक शांति से भर देता है। यदि आप इस यात्रा की योजना बना रहे हैं, तो सही तैयारी और मार्गदर्शन के साथ इसे सफलतापूर्वक पूरा कर सकते हैं।

शिवधाम खैरी मानव कल्याण समिति 

 

Post a Comment

0 Comments